Wednesday, 27 January 2016

शायरी

ऐ मोहब्बत तू बेवक्त
आ जाती है मेरे दरवाजे पे
कभी डोअर बेल बजाके
तो कभी चुपके खिडकीसे...

प्रिया सातपुते