Sunday, 24 July 2016

शायरी

मेरे रुठ जाने पे
इतना भी मुस्कुराया न करो
किसी दिन सच में रुठ गई तो
इन ही यादों में तडपते रह जाओगे...

प्रिया सातपुते